Glimpses of India Coorg Class 10 English Summary

Glimpses of India Coorg Class 10 English First Flight Summary is given below. By reading through the prose detailed summary, CBSE Class 10 students will be able to understand the chapter easily. Once the students finished reading the summary they can easily answer any questions related to the chapter. Students can also refer to CBSE Class 10 English Prose Summary notes – Glimpses of India Coorg for their revision during the exam.

CBSE Class 10 English Coorg Summary

A Letter to God Summary in both english and hindi is available here. This article starts with a discussion about the author and then explains the chapter in short and detailed fashion. Ultimately, the article ends with some difficult words and their meanings.

Short Summary of Coorg

The lesson gives us a beautiful insight of the smallest district of Karnataka and its people. The place has an amazing weather throughout the year with enough rain during the monsoon season. The people of Coorg are known to be one of the bravest. Coffee is the main crop grown in this region. A variety of animals can be found here while the place is surrounded by beautiful Brahmagiri hills, islands and Tibetan settlements.

Summary of Coorg in English

Coorg is situated midway between Mysore and the coastal town of Mangalore (now Mangaluru). It is a heaven on earth carried gently by the air with great efforts from the kingdom of God. Here one can find the martial men who have shown their valour in the war.

It is a home of evergreen forests, spices, coffee, wild animals and other kinds of shrubs. During the monsoon, it rains heavily and visitors fail to enjoy the perfect bliss of the earth. From September to March the weather is all embracing and the air breathes of invigorating coffee.

In prime comers one can see coffee estates and colonial bungalows. Coorg or Kodagu is the smallest district of Karnataka. Its people are possibly of Greek or Arabic descent. As the story goes on that a part of Alexander’s army moved south along the coast and settled here since the return became impossible.

So these people married the locals and adopted their rites. Even today we can see some differences from the Hindu mainstream in that place. There is another theory of Arab origin that the Kodagus wear black coat with an embroidered waist belt known as kuppia, it resembles the kuffia worn by the Arabs and the Kurds.

Coorgi homes are very hospitable. There are so many tales of valour related to their sons and fathers. The Coorg Regiment is famous in the Indian Army. General Cariappa, the first Chief of Indian Army was a Coorgi. Only the Kodagus are the people in India who are permitted to carry firearms without a licence. They are famous for showing utmost bravery before the enemy.

There flows the Kaveri river from the hills and forests of Coorg. Fish like Mahaseer and kingfishers etc. are abundant in these waters. Other creatures like squirrels, langurs and elephants enjoy the splash and ripple effect in the clear water.

The elephants can be seen bathing and their mahouts scrub them. The games like rafting, canoeing, rappelling, rock climbing, mountain biking and walking trails are favourite with the trekkers.

There one can enjoy the birds, bees, butterflies, Macqus, Malabar squirrels, langurs and slender loris are there to company us. The birds sit on the trees and keep a watchful eyes on the visitors.

The ride on the elephants is very joyous. One can enjoy a climb on the Brahmagiri hills. It provides a clear worth seeing view of Coorg. There one can see the rope bridge which leads to the sixty-four-acre island of Nisargadhama. Walking over this rope-bridge creates trembling sensations in, the body.

There one can come across India’s largest Tibetan colony. It is run by the Buddhist monks. It is near Bylakuppe. It is inhabited robes by monks who wear red, ochre and yellow robes. A number of visitors visit to discover the heart and soul of India in Coorg. One can reach there by reaching Madikeri.

It is the district headquarter. The misty hills, lush forests and coffee plantation will cast a spell on us. From Bangalore (now Bengaluru), Mysore and Mangalore one can reach Coorg by air and rail.

the rainy season. There is the smell of coffee in the air. The people of Coorg are martial men. These people are of Greek or Arabic descent. According to a legend, a part of Alexander’s army stopped and settled here. They married amongst the locals.

Their culture is seen in the martial traditions, marriage and religious rites, they are different from the Hindu mainstream. These people wear a long black coat with an embroidered waist-belt. This is known as Kuppia and it resembles Kuffia that is worn by the Arabs and the Kurds. They love traditions of hospitality and this quality makes them unique.

Summary of Coorg in Hindi

कूर्ग, एक जगह जो इतनी खूबसूरत है कि ऐसा लगता है जैसे स्वर्ग का टुकड़ा भगवान के राज्य से दूर चला गया है और पृथ्वी पर बस गया है। यह मैसूर और मैंगलोर के बीच कहीं है। यह असमान ऊँचाई की कम पहाड़ियों वाला क्षेत्र है। पुरुष बहादुर योद्धा हैं, कूर्ग की महिलाएं सुंदर हैं। जगह पर विभिन्न प्रकार के जंगली जानवर भी हैं।

कोडगु के रूप में भी जाना जाता है, यह कर्नाटक के सबसे छोटे जिलों में से एक है। कूर्ग का 30% क्षेत्र सदाबहार वर्षावनों से आच्छादित है और यह स्थान वर्ष के अधिकांश भाग के लिए वर्षा प्राप्त करता है, विशेषकर मानसून के मौसम के दौरान। कूर्ग आने के लिए सितंबर से मार्च की अवधि आदर्श है। मौसम खुशनुमा होता है और कुछ बारिश होती है जो इसे सार्थक बनाती है। प्रचुर मात्रा में कॉफी के बागानों के कारण हवा कॉफी की मजबूत खुशबू से भर जाती है।

माना जाता है कि कूर्ग के लोग ग्रीक या अरबी पृष्ठभूमि के हैं और आमतौर पर क्रूर हैं। यह सिद्धांत उनके ड्रेसिंग स्टाइल के कारण अस्तित्व में आया। उन्हें आम तौर पर कढ़ाईदार कमर बेल्ट के साथ लंबे और काले कोट पहने हुए देखा जाता है जिन्हें कुप्पिया के नाम से जाना जाता है। कुप्पिया अरब और कुर्दों द्वारा पहने जाने वाले कफ़िया के समान है। यह भी अफवाह है कि सिकंदर की सेना के कुछ लोग अपने वतन नहीं लौट पाए और इसलिए, दक्षिण से लौटते समय यहां बस गए। कूर्ग के लोग एक-दूसरे से शादी करते हैं और उनकी संस्कृतियों के साथ-साथ रीति-रिवाज भी हिंदुओं द्वारा पालन किए जाने वाले लोगों से बहुत अलग हैं।

लोग बहुत स्वागत करते हैं और प्रकृति में गर्म हैं। वे हमेशा अपने पूर्वजों की कहानियों के साथ मनोरंजन के लिए तैयार रहते हैं। उन्हें स्वतंत्र, क्रूर और बहादुर के रूप में जाना जाता है, जो इस तथ्य से स्पष्ट है कि भारतीय सेना में कूर्ग रेजिमेंट को बहादुरी के लिए अधिकतम संख्या में पुरस्कार मिले हैं। जनरल करियप्पा नाम के भारतीय सेना के पहले प्रमुख कूर्ग के थे। इसके अलावा, ये एकमात्र ऐसे लोग हैं जिन्हें आग्नेयास्त्रों को स्वतंत्र रूप से दूसरों के विपरीत ले जाने की अनुमति है जिन्हें लाइसेंस की आवश्यकता है। इससे पता चलता है कि कूर्गिस विश्वसनीय भी हैं।

कूर्ग के सदाबहार जंगल और पहाड़ियां दक्षिण भारत की एक प्रमुख नदी कावेरी नदी को पानी प्रदान करती हैं। मासेरर नामक एक बड़ी ताजे पानी की मछली इन पानी में पाई जाती है और पक्षियों द्वारा देखी जाती है। गिलहरी और लंगूर आधे पानी वाले फलों को फेंककर इन पानी में खेलते हैं जबकि हाथी इसमें स्नान करने का आनंद लेते हैं।

जगह की प्राकृतिक सुंदरता में आराम करने के लिए कूर्ग की यात्रा करने वाले पर्यटक रिवर राफ्टिंग, कैनोइंग, रैपलिंग, रॉक क्लाइम्बिंग और माउंटेन क्लाइम्बिंग जैसी विभिन्न साहसिक खेल गतिविधियों की ओर भी आकर्षित होते हैं। पहाड़ियों में पैदल चलने वाले पैदल यात्रियों द्वारा विभिन्न रास्ते बनाए जाते हैं जो वहाँ ट्रेक करते हैं।

अपने क्षेत्र में टहलने के दौरान, कोई व्यक्ति अपने आस-पास विभिन्न प्रकार के जानवर पा सकता है। पक्षी, मधुमक्खियाँ और तितलियाँ आपके आस-पास उड़ती हैं, जबकि गिलहरी और लंगूर पेड़ों से आप पर नज़र रखते हैं। जंगली हाथी भी कूर्ग में पाए जा सकते हैं।

कूर्ग के खूबसूरत शहर को देखने के लिए, ब्रह्मगिरी पहाड़ियों पर चढ़ना चाहिए। कूर्ग निसारगधामा और ब्यलकुप्पे द्वीप की तरह सुंदरता के अद्भुत स्थानों से घिरा हुआ है जो भारत की सबसे बड़ी तिब्बती बस्ती है। कूर्ग जिले में लाल, नारंगी और पीले रंग के परिधान पहने हुए भिक्षुओं को भी देखा जा सकता है जहाँ यात्रियों के लिए उनकी जीवन शैली आकर्षक है। विविध संस्कृतियों का मिश्रण यहाँ देखा जा सकता है जो भारत के हृदय और आत्मा का प्रतिनिधित्व करते हैं।

You cannot copy content of this page