An Alien Hand Summary Class 7 English

Class 7 English An Alien Hand Summary is given below. By reading through the detailed summary of An Alien Hand, CBSE Class 7 students will be able to understand the lesson easily. Once the students finished reading the summary they can easily answer any questions related to the chapter. Students can refer to CBSE Class 7 English summary for their revision during the exam.

An Alien Hand Summary in English

Short Summary

The story is sci-fiction where life on mars presented. Viking Mission ventured out for the existence of life on Mars in 1976 – 77. The story is woven around this fact. The helplessness because of the extinction of natural resources led the people of Mars to remain underground with technical advancement.

Summary in Detail

The chief objectives of the Viking Mission to Mars were to get pictures and samples of soil to find out if there were signs of life there.

Tilloo and his parents lived beneath our planet under artificial conditions. They were not allowed to go on the surface for two reasons. The air was too thin to breathe and the temperature was very low.

Tilloo’s father was a part of that team. He used to go to work daily through a secret passage. But it was a forbidden route for the boy. Tilloo was curious to know about and see the sky. His mother would not let him go.

That day Tilloo’s father was enjoying a short sleep at home. Tilloo managed to pick up his security card. He went along the forbidden passage. The magic card helped him open the door. He marched along an upward slope. But he had underestimated the security arrangements. Invisible mechanical devices photographed him and sent his picture to the Central Bureau. Soon he was caught and sent back home.

Father decided to explain everything to the boy. He said that he could stay alive on the surface because he carried oxygen to keep himself warm. His special boots enabled him to walk easily. There was a time when their forefathers lived on the surface safely and naturally.

But a small change of climate upset the balance of nature on that planet. All birds, fish and animals lost their exitence. Only man managed to stay alive in underground artificial conditions. They produced power from sunlight. Father’s job was to keep the machines on the surface in working condition.

Next day Tilloo’s father found a crowd watching the big TV screen. The computer showed something from the other planet heading towards them. It was a spacecraft. They wondered who the strangers in that craft were.

The President made an announcement. It was reported that two spacecrafts were approaching them. They were to decide how to deal with them. Number one said that they could easily destroy those spacecrafts, but that would be unwise. He suggested that they should let them land. They were unmanned. They contained only instruments. Number two favoured the policy of wait and watch. They must not reveal their presence. Number three supported the views.

Just then the news came that the first alien spacecraft had landed. Tilloo watched the funny thing on the TV screen from the Control Room. He noted some movement in it. A mechanical hand came out and touched the soil. Tilloo lost self control resistance. He pressed the red button. This created excitement. Father restored the red button to its neutral position. The mechanical hand stopped working.

A press conference on the earth was held. A scientist told the press about sudden defect in mechanical hand. But it was made to work again. Soil samples were collected. But the scientists were in great disappointment. The Viking Mission found no signs of life on Mars.

An Alien Hand Summary in Hindi

मंगल ग्रह के लिए वाइकिंग मिशन के मुख्य उद्देश्य यह पता लगाने के लिए थे कि मिट्टी के नमूने और नमूने मिले हैं या नहीं।

टिल्लू और उसके माता-पिता कृत्रिम परिस्थितियों में हमारे ग्रह के नीचे रहते थे। उन्हें दो कारणों से सतह पर जाने की अनुमति नहीं थी। हवा सांस लेने के लिए बहुत पतली थी और तापमान बहुत कम था।

टिल्लू के पिता उस टीम का हिस्सा थे। वह एक गुप्त मार्ग से रोजाना काम पर जाता था। लेकिन यह लड़के के लिए एक निषिद्ध मार्ग था। टिल्लू आकाश के बारे में जानने और देखने के लिए उत्सुक था। उसकी मां उसे जाने नहीं देती थी।

उस दिन टिल्लू के पिता घर पर एक छोटी नींद का आनंद ले रहे थे। टिल्लू अपना सुरक्षा कार्ड लेने में कामयाब रहा। वह निषिद्ध मार्ग से चला गया। मैजिक कार्ड ने उसे दरवाजा खोलने में मदद की। उन्होंने एक ऊपर की ओर ढलान के साथ मार्च किया। लेकिन उन्होंने सुरक्षा व्यवस्था को कम करके आंका था। अदृश्य यांत्रिक उपकरणों ने उसकी तस्वीर खींची और उसकी तस्वीर केंद्रीय ब्यूरो को भेजी। जल्द ही उसे पकड़ लिया गया और घर वापस भेज दिया गया।

पिता ने लड़के को सब कुछ समझाने का फैसला किया। उन्होंने कहा कि वह सतह पर जीवित रह सकते हैं क्योंकि उन्होंने खुद को गर्म रखने के लिए ऑक्सीजन का काम किया। उनके विशेष बूट ने उन्हें आसानी से चलने में सक्षम बनाया। एक समय था जब उनके पूर्वज सुरक्षित और स्वाभाविक रूप से सतह पर रहते थे। लेकिन जलवायु का एक छोटा सा परिवर्तन उस ग्रह पर प्रकृति के संतुलन को परेशान करता है। सभी पक्षियों, मछलियों और जानवरों ने अपनी निकासी खो दी। भूमिगत कृत्रिम परिस्थितियों में केवल मनुष्य जीवित रहने में कामयाब रहा। उन्होंने सूर्य के प्रकाश से बिजली का उत्पादन किया। पिता का काम मशीनों को काम करने की स्थिति में सतह पर रखना था।

अगले दिन टिल्लू के पिता को बड़ी टीवी स्क्रीन देखने वाली भीड़ मिली। कंप्यूटर ने दूसरे ग्रह से उनकी ओर बढ़ते हुए कुछ दिखाया। यह एक अंतरिक्ष यान था। उन्होंने सोचा कि उस शिल्प में अजनबी कौन थे।

राष्ट्रपति ने एक घोषणा की। यह बताया गया कि दो अंतरिक्ष यान उनके पास आ रहे थे। उन्हें तय करना था कि उनसे कैसे निपटा जाए। नंबर एक ने कहा कि वे उन अंतरिक्षयानों को आसानी से नष्ट कर सकते हैं, लेकिन यह नासमझी होगी। उन्होंने सुझाव दिया कि वे उन्हें जमीन देने दें। वे मानवरहित थे। उनमें केवल साधन थे।

नंबर दो ने प्रतीक्षा और घड़ी की नीति का पक्ष लिया। उन्हें अपनी उपस्थिति का खुलासा नहीं करना चाहिए। नंबर तीन ने विचारों का समर्थन किया।

तभी खबर आई कि पहला एलियन अंतरिक्ष यान उतरा था। टिल्लू ने कंट्रोल रूम से टीवी स्क्रीन पर मजेदार चीज देखी। उन्होंने इसमें कुछ आंदोलन का उल्लेख किया। एक यांत्रिक हाथ बाहर आया और मिट्टी को छू गया। टिल्लू ने आत्म नियंत्रण प्रतिरोध खो दिया। उसने लाल बटन दबाया। इससे उत्साह पैदा हुआ। पिता ने लाल बटन को अपनी तटस्थ स्थिति में बहाल किया। यांत्रिक हाथ ने काम करना बंद कर दिया।

पृथ्वी पर एक प्रेस कॉन्फ्रेंस आयोजित की गई थी। एक वैज्ञानिक ने प्रेस को यांत्रिक हाथ में अचानक दोष के बारे में बताया। लेकिन इसे फिर से काम करने के लिए बनाया गया था। मिट्टी के नमूने एकत्र किए गए। लेकिन वैज्ञानिक बड़ी निराशा में थे। वाइकिंग मिशन को मंगल पर जीवन के कोई संकेत नहीं मिले।

You cannot copy content of this page