The Summit Within Summary Class 8 English Honeydew

The Summit Within Class 8 English Honeydew Story Summary help you to understand the lesson easily. Once the students finished reading the summary in english and hindi they can easily answer any questions related to the chapter. Students can also refer to CBSE Class 8 English summary notes – for their revision during the exam.

CBSE Class 8 English The Summit Within Summary

Short Summary

The Summit Within’ is an account of encounters of Major H.P.S. Ahluwalia, an individual from the primary effective Indian endeavor to Mount Everest. Ahluwalia was loaded with quietude when he remained on the summit of Everest. He expressed gratitude toward God for his physical achievement.

It was the most noteworthy objective for him. While getting down from the Summit he wondered why he climbed Everest and what made him do as such. The individuals climb mountains since they present incredible troubles.

A move to a summit implies the showing of climber’s continuance, Persistence, and self-control. Since youth, the storyteller has been pulled in by mountains. For him, mountains are nature at its best. They have a difficult wonder and glory. Ascending a mountain is a profoundly unsafe activity and requires others’ assistance moreover. The kindred climbers end up being a wellspring of motivation.

One can get more full information on oneself simply by ascending ones close to home and inner mountain top. Both the trips show one much the world and about oneself. The inner summits are a lot higher than Everest. The climber gets the motivation to confront life’s trials sincerely.

The Summit Within Summary in English

On reaching the summit. Major Ahluwalia felt elated. The first thing came that into his mind was ‘humility’. The vast surrounding and view from the top made him realize his victory.

He thanked God for his successful journey. He also realized that he had accomplished climbing the highest peak and thus left with no other higher peak further.

He talked about the changes one could have in the feeling of joy and thankfulness. Major was occupied with the thought although it was thing of the past. When Major was contemplating about reasons for climbing mountains the reasons popped out of his reasons.

One such reason is that he felt elated in ‘overcoming obstacles’. A climber should bear the hardships faced during climbing is endurance, persistence, and willpower.

Mountains fascinated Major since his childhood. It is one of the finest creations of the nature. He also believed that ‘mountains are a means of communion with God’. He couldn’t bear the separation from mountains.

He imparted the information regarding the summit that one feels victorious and happy once he successfully accomplishes the hardships of the journey. The exhaustive efforts turn into ‘exhilaration’ once the majestic Everest’s peak is climbed.

He called the experience as ‘mystic’ because of its beauty, aloofness, might, ruggedness and difficulties. He felt that it is difficult to find a reason of the summit for he had a natural desire.

He experienced that Everest climbing makes one conscious of one’s ‘smallness in this large universe’. One feels accomplishment and satisfaction of physical, emotional and spiritual desires.

A typical climb shares ropes, becomes firmer with each move of the preceding climbers. He learns from previous climbers, who share their experience to make it easier for other to follow and helps win over the obstacles with ease and preparations.

Sometimes a climber might feel divested because of the hardships, however, he recollects himself and push his limits, and also inspire the other fellows too.

The endeavors of a climber get paid off once he reaches the top. The serene beauty fascinates him. He explained the ‘surrounding peaks look like a jeweled necklace around the neck of your summit’.

Looking at valleys could be an ennobling, enriching experience. One gets fascinated by the God’s creation by submitting in his obedience. Various climbers left a relic, a cross orpecturo etc. not as a symbol of ‘conquest but of reverence’.

Major Ahluwalia experienced inside out* He wanted everyone ‘to climb his own mountain peak to win over himself. Then he would turn into a fearless, confident and resolute man. He felt that one’s inner self is an internal summit that needed to climb to conquer oneself.

The Summit Within Summary in Hindi

मेजर अहलूवालिया उस पहले दल के सदस्य थे जिसने पहली बार माउन्ट एवरेस्ट पर 1965 में सफल अभियान किया था। इस पाठ में वह हमें अपनी भावनाओं के बारे में बताते हैं जो विश्व के सर्वोच्च शिखर पर खड़े होकर उन्होंने महसूस की थीं।

उनके मन में सबसे पहले तो विनम्रता का भाव आया। उन्होंने परमात्मा को धन्यवाद दिया क्योंकि एवरेस्ट पर्वत पर विजय अभियान सफल रहा है। वह खुश और उदास दोनों ही थे। उन्हें उदासी इस बात की थी कि वह जिस शिखर पर पहुंच गए हैं उसके पश्चात अब कोई दूसरा पर्वत शिखर चुनौती देने वाला नहीं बचा।

एवरेस्ट पर्वत की विजय एक गहरी खुशी देती है जो आजीवन बनी रहती है। यह अनुभव मनुष्य को पूरी तरह से बदल देता है। इस ऊँचे पर्वत पर विजय प्राप्त कर लेखक को महसूस हुआ कि अपने मन पर विजय प्राप्त करना कम कठिन नहीं है।

जब वह शिखर पर से नीचे उतर रहे थे उन्होंने स्वयं से पूछा कि उन्होंने पर्वतारोहण का काम क्यों चुना। उनकी उपलब्धि तो अब अतीत की बात हो गई है। समय बीतने के साथ यह खुशी कम होती जायेगी। उन्होंने स्वयं से प्रश्न किया कि लोग ऊँचे पर्वत पर चढ़ाई क्यों करते हैं। सरलतम उत्तर तो यह है कि पर्वत की चोटी पर पहुँचना बहुत कठिन काम है और मनुष्य कठिनाइयों पर विजय पाकर स्वयं को महान समझने लगता है। पर्वतारोहण मनुष्य की शारीरिक क्षमता एवं इच्छा शक्ति की परीक्षा लेता है।

लेखक इस निजी प्रश्न का उत्तर देता है। पर्वतों से उसे बचपन से आकर्षण रहा है। पर्वतों से दूर चले जाने पर उसे पर्वतों की याद आती थी। वह उनकी सुन्दरता तथा महानता को एक चुनौती के रुप में देखता था। सबसे बड़ी बात तो यह है कि पर्वतारोही स्वयं को परमात्मा के निकट महसूस करने लगता है।

पर प्रश्न उठता है कि सभी पर्वतों में से एवरेस्ट ही क्यों? उसने उसे इसलिए चुना क्योंकि वह सभी पर्वतों से अधिक ऊँचा तथा सर्वाधिक चुनौतीपूर्ण काम था। लेखक का हिमालय पर चढ़ना तो जैसे चट्टानों और हिम से संघर्ष करना था। पर जब वह शिखर पर खड़ा था, उसे यह सोचकर खुशी हुई कि उसने महान विजय प्राप्त करके कोई महान कार्य संपन्न कर लिया। एवरेस्ट ने ही उसे पुकार कर बुलाया था।

पर्वतारोहण के पीछे क्या कारण होता है यह बताना कठिन है। यह प्रश्न तो वैसा ही है कि व्यक्ति साँस क्यों लेता है अथवा आप कोई नेक काम क्यों करते हैं। सफलता के पश्चात एक संतोष मिलता है। यह मनुष्य के साहसिक काम करने के प्रेम को दर्शाता है। यह अनुभव केवल शारीरिक नहीं है वरन् आध्यात्मिक भी है। आप ऊपर पहुँचने के लिये पूरा प्रयास करते हैं। साँस लेना भारी हो जाता है। वैसे क्षण भी आते हैं जब पर्वतारोही को लगता है कि वापस लौट जायें। पर कोई चीज है जो आपको प्रयास छोड़ देने से रोक देती है।

शिखर पर पहुँचकर आप स्वंय को बताते हैं कि प्रयास बहुत पुरस्कार देने वाला रहा। नीचे आप विशाल घाटियाँ देखते हैं। आप परमात्मा के सामने पूजा के लिए शीश झुका देते हैं।

लेखक एवरेस्ट शिखर पर गुरुनानक का चित्र छोड़ आया। एक सदस्य (रावत) ने देवी दुर्गा का चित्र छोड़ा और फूदोर्जी ने भगवान बुद्ध का एक अवशेष वहां रख दिया। एडमण्ड हिलेरी ने बर्फ में दबी चट्टान के नीचे क्रॉस रख दिया। ये सब परमात्मा के प्रति आदरभाव के प्रतीक हैं।

एक और भी शिखर है जिस पर हमें विजय पानी है। वह शिखर हमारे ही अन्दर है, हमारा दिमाग। सबसे दुष्कर कार्य है आत्मज्ञान। यह काम व्यक्ति को अकेले और स्वयं करना होता है। एवरेस्ट अनुभव ने लेखक को जीवन का निर्भीकता से सामना करने की प्रेरणा दी।

You cannot copy content of this page