A Legend of the Northland Summary Class 9 English Poem

A Legend of the Northland Summary Class 9 English Beehive Poem is given below. By reading the detailed summary, CBSE Class 9 students will be able to understand the chapter easily. Once the students finished reading the summary they can easily answer any questions related to the chapter. Students can also refer to CBSE Class 9 English Summary notes – A Legend of the Northland for their revision during the exam.

CBSE Class 9 English A Legend of the Northland Summary

A Legend of the Northland Summary in both english and hindi is available here. This article starts with a discussion about the poet and then explains the chapter in short and detailed fashion. Ultimately, the article ends with some difficult words and their meanings.

Short Summary of A Legend of the Northland

This is a ballad poem means it narrates a story in short paragraphs. Also, in a ballad, all the paragraph contains four lines. And in total it has 16 stanzas that tell us a story. They are part of the folk culture or popular culture that orally passed from one generation to the next. However, folk culture is stories of an area that we know as a ballad. Besides, this is the story of the Northern area, which is near the North Pole. The poet doesn’t specify the exact place. But ‘Northland’ means the area in the northernmost part of the earth i.e., near the North Pole. Further, ‘legend’ refers to a historical story that is very old and has been orally passed from generation to generation.

Summary in English

In this poem, the poet tells us about an incident that took place in Northland. Nights in Northland are very long and the people can not stay asleep for the whole night. People residing there harness the reindeers to pull their sledges. Their children wear furry clothes. Then the poet narrates a story. However, the poet does not believe it to be true.

Once, Saint Peter was travelling round the earth. He came across a little woman who was baking cakes in a hearth in Northland. The Saint was feeling very week due to fast. Therefore, he requested the lady to give him one cake. The lady was very greedy. She made a small cake and placed it on the hearth for baking it. But it became large in size after it was turned. She changed her mind and placed it in the shelf instead of giving it to the saint. Then she took little scrap of dough and then baked it. But she again failed to part with it. She said that when she herself eats them, they look small to her; but when she gives it to others, it looks too big to give away.

At this, the saint tells her she is too selfish to dwell in human form in the warmth of a house. Saying this, he transforms her in a woodpecker. Now she will get very less food and will keep boring the holes in the dry hard wood. At this she entered the chimney and when she escaped from the top of it, her clothes were burnt in the flames except her scarlet cap and now she was a woodpecker. Every country schoolboy can see her boring in the woods even today.

Conclusion of the Lake Isle of Innisfree

In this poem, the poet wants to go to Innisfree where he can live freely in his cabin. However, the present situation of the poet is just the opposite of what he wants. Overall, in the poem, the poet wants peace which according to him, can only find it near the lake of Innisfree.

Summary in Hindi

नॉर्थलैंड उत्तरी ध्रुव के पास का एक क्षेत्र है जहाँ दिन कम होते हैं क्योंकि सूर्य की किरणें बहुत कम समय के लिए पहुँचती हैं। यहाँ, सर्दियों के दौरान, रात की अवधि लंबी होती है और दिन छोटे होते हैं। पंक्ति 4 में ‘वे’ शब्द इस क्षेत्र में रहने वाले लोगों को दर्शाता है। साथ ही, कवि का कहना है कि रातों की अवधि लंबी है और लोग उनके माध्यम से सो नहीं सकते हैं। कवि इस तथ्य पर जोर देना चाहता है कि रातें बहुत लंबी हैं।

यह क्षेत्र बर्फीले क्षेत्र के रूप में गंभीर ठंड की स्थिति का अनुभव करता है। इसके अलावा, बारहसिंगा वे जानवर हैं जो ध्रुवीय क्षेत्र में रहते हैं, जिसका उपयोग लोग अपनी ढलान को खींचने के लिए करते हैं। साथ ही, कवि कहता है कि बच्चे ध्रुवीय भालू के शावकों की तरह दिखते हैं क्योंकि वे भालू की त्वचा के फर से बने कपड़े पहनते हैं। 3 पैरा के इनलाइन 1 में, वे ‘बड़ों को संदर्भित करते हैं और’ उन्हें ‘बच्चों को संदर्भित करते हैं। इसके अलावा, बुजुर्ग युवा लोगों के बारे में एक अजीब और दिलचस्प कहानी बताते हैं। हालांकि, कवि यह नहीं मानता कि कहानी सच है, फिर भी, यह एक महत्वपूर्ण संदेश देता है।

यह गाथा उस समय को संदर्भित करती है जब संत पीटर दुनिया में रहते हैं और चारों ओर जाते हैं, सभी संतों की तरह लोगों को आध्यात्मिक व्याख्यान देते हैं, और फिर एक दिन एक घटना हुई। व्याख्यान देते समय, एक दिन वह एक झोपड़ी के दरवाजे पर पहुँचा, जहाँ एक छोटी सी महिला चिमनी में केक बना रही थी। सेंट पीटर उस दिन बहुत भूखा था, क्योंकि उसने भोजन नहीं किया था और वह कमजोर महसूस कर रहा था। इसलिए, वह महिलाओं से संपर्क करती है और उसके द्वारा पके हुए कई केक में से एक केक मांगती है।

महिलाएं स्वार्थी थीं और उन्होंने उन्हें स्टोर से केक नहीं दिया। इसकी जगह, वह सेंट पीटर के लिए एक बहुत छोटा केक बनाती है। वह अपनी चीजों को साझा नहीं करना चाहती। हालाँकि, जब वह केक को बेक करने के लिए रखती है तो उसे लगता है कि उसे छोड़ देना बहुत बड़ी बात है। दुखी महिलाओं ने फिर एक छोटा केक बनाना शुरू किया। उसने यह तीन बार किया लेकिन संत पीटर को कोई केक नहीं दिया। वह कारण है कि जब वह उन्हें खा लिया वे छोटे लग रहा था। लेकिन जब उसे उन्हें देना था तो उन्होंने किसी को देने के लिए बहुत बड़ा महसूस किया। और अंत में, उसने अपनी रसोई के शेल्फ पर सभी केक रखे और संत को कोई केक नहीं दिया।

संत पीटर ने क्रोधित होकर उसे शाप दिया क्योंकि वह बहुत भूखा था और बहुत कमजोर महसूस करता था। संत ने उससे कहा कि तुम स्वार्थी हो और मनुष्य के रूप में जीने के लायक नहीं हो। वह आगे जोड़ता है कि भगवान ने उसे गर्म रखने के लिए उसे भोजन, आश्रय और आग दी है, लेकिन वह स्वार्थी और लालची हो गया। इसलिए महिलाएं एक ऐसी चिड़िया बन गईं, जिन्हें पूरे दिन काम करके अपने घर को लकड़ी से बोर करके घर बनाना पड़ता था।

जब सेंट पीटर ने उसे शाप दिया तो वह एक पक्षी बन गई और चिमनी से उड़ गई। जब वह उड़ती थी, तो उसके सिर पर लाल टोपी होती थी, जो महिलाएं पहनती थीं। इसके अलावा, जब ग्रामीण इलाकों में लोग और बच्चे इस तरह के पक्षी को देखते हैं तो उनके बड़े उन्हें पक्षी की यह कहानी सुनाते हैं।

You cannot copy content of this page