No Men Are Foreign Summary Class 9 English Poem

No Men Are Foreign Summary Class 9 English Beehive Poem is given below. By reading the detailed summary, CBSE Class 9 students will be able to understand the chapter easily. Once the students finished reading the summary they can easily answer any questions related to the chapter. Students can also refer to CBSE Class 9 English Summary notes – No Men Are Foreign for their revision during the exam.

CBSE Class 9 English No Men Are Foreign Summary

No Men Are Foreign Summary in both english and hindi is available here. This article starts with a discussion about the poet and then explains the chapter in short and detailed fashion. Ultimately, the article ends with some difficult words and their meanings.

About the Poet – James Kirkup

James Kirkup (1918-2009) is the Director of the Social Market Foundation and the former Executive Editor – Politics for The Telegraph. He was a lobby journalist for 16 years. He was a prolific poet and translator. His work includes several dozen poetry collections, six volumes of autobiography.

Short Summary of No Men Are Foreign

No Men are Foreign Summary – This poem ‘No Men are Foreign’ is all about human beings. Also, it tells that every human being that lives on this earth are brothers and are same. Moreover, we all have some kind of body and needs sun, air, water, and clothes to cover us. We all walk the land and feed ourselves with the harvest of this earth. Upon death, people will bury us in this same land. In addition, we all do work and sleep and wake up, loves, and wants to love in return for others. But we (human beings) hate each other and because of this, we live on by hating and fighting with one another. Further, it is humans who pollute the environment by taking into consideration its bad impact on other people.

Summary in English

The poem tells us that all people are essentially the same. We should not see other people as foreign or strange just because they come from some other country or place. Humanity is the same all over the earth. All divisions based on nation, caste, creed, color, religion or language are baseless since we all have the same basic needs and to fulfill them, we depend on the same resources available on the earth. People everywhere have the same physical, mental and emotional experiences.

They are in no way different or strange even though they wear different clothes, speak different languages and profess different religions. We are all the same with same feelings and emotions. If we harm anyone, we are harming ourselves because we all are related to each other with the same thread of humanity. We must keep in our minds that if we destroy another country, we are destroying our own earth.

Since we are all same, we must not take arms against any one because we only defile our earth by such actions. The dust and smoke caused by war weapons pollute the very air we breathe in. So, all violence of all kinds should be stopped. It will lead us to a better life. Thus, the poet urges us that we should live in peace and harmony and do works for spreading fraternity all around us.

These are important things which enrich humanity. Poetic Devices Used in the Poem Rhyme scheme: The poet does not follow any identifiable rhyme scheme in this poem. It is a free verse. Rhetorical devices: Simile: A single body breathes like ours. They have eyes like ours. Metaphor: The poet uses this device in the third line as he compares his fellow human beings with his own brothers.

For example, Like ours: the land our brothers walk upon He again uses it on the sixth line when he compares war with winter since reduced resources are available at both those sides. For example, Are fed by peaceful harvests, by war’s long winter starved He uses it for the last time in the 18th line when he compares wars with hells. For example, Our hells of fire and dust outrage the innocence

Conclusion of A legend of the Northland
By, a legend of the Northland summary the poet wants to say that when you have something then share it with others. And don’t be selfish and greedy.

Summary in Hindi

शुरुआत में, कवि कहता है कि कोई भी आदमी अजीब नहीं है और कोई भी देश विदेशी नहीं है ’। तो, कवि पृथ्वी की सतह से देशों की सभी सीमाओं को हटाने की कोशिश करता है। तभी कोई भी देश विदेशी नहीं होगा। इसके अलावा, जब कोई सीमा नहीं होगी तो कोई भी काउंटी विदेशी नहीं होगी। और हम बेझिझक घूम सकते हैं। इस तरह, पूरी पृथ्वी एक है और इस पृथ्वी पर रहने वाले सभी लोग एक मानव जाति के हैं। इसके अलावा, विभिन्न देशों के सैनिकों की वर्दी के अंदर, मानव समान हैं। क्योंकि भगवान ने हम सभी को इसी तरह बनाया है। हम सभी एक ही तरह से सांस लेते हैं। उसके बाद कवि कहता है कि सभी सैनिक हमारे भाई हैं – जैसा कि हम सभी एक ही ’मदर अर्थ’ पर चलते हैं। और मरने पर, उसी धरती में दफ़न हो जाएगा।

अगले भाग में, वे ‘अन्य देशों के लोगों को संदर्भित करते हैं। हम उनके साथ भी भेदभाव करते हैं और उन्हें विदेशी कहते हैं। वह यह भी कहता है कि प्रकृति ने उन्हें बहुत कुछ दिया है जैसे उसने हमें दिया। ईश्वर ने सभी को समान वायु, जल और सूर्य का प्रकाश दिया है जिसका अर्थ है कि ईश्वर अलग नहीं है। जब युद्ध नहीं होता है, तो हम सभी खेती करते हैं। हम एक आरामदायक जीवन जीते हैं और प्रकृति द्वारा दी गई चीजें खाते हैं। इसके अलावा, वह बताते हैं कि युद्ध और सर्दियों के दौरान हम भूखे रहते हैं और दूसरे देश के लोग भी ऐसी ही चीजों का सामना करते हैं। इसलिए, कवि यह कहना चाहता है कि हम और दूसरे देश के विदेशी एक ही हैं। इसके अलावा, वह कहता है कि उनका भी हमारे जैसा ही हाथ है और वे भी हमारी तरह मेहनत करते हैं। कवि इन सभी उदाहरणों को पाठकों को व्यक्त करने के लिए देता है कि एक अलग देश के लोगों के बीच कोई अंतर नहीं है।

कवि पाठक को कुछ याद रखने के लिए कहता है। वह आगे कहता है कि ध्यान रखें कि भगवान ने हमारे समान दिखने के साथ हमारे दुश्मनों को भी दिया है। भगवान ने उन्हें ऐसी ही आंखें दी हैं जो हमारी तरह खुली और बंद होती हैं। ईश्वर ने भी उन्हें ताकत दी है जिसे हम प्यार से जीत सकते हैं। और हर भूमि पर जीवन सबसे आम बात है। इसके अलावा, जब हमें पता चलता है कि वे हमारे जैसे हैं, तो युद्ध नहीं होगा।

जब कोई हमें किसी दूसरे देश से नफरत करने के लिए कहता है और सोचता है कि तब हमारा दुश्मन है और हम ऐसा करते हैं तो हम उसे धोखा देते हैं, निंदा करते हैं और खुद को धोखा देते हैं। कवि कहता है कि हमें ऐसी नकारात्मकता से दूर रहना चाहिए। युद्ध के दौरान दोनों पक्ष नुकसान उठाते हैं। यही कारण है कि लोग कहते हैं कि युद्ध किसी के पक्ष में नहीं है। जब हम किसी के खिलाफ कोई हथियार उठाते हैं, तो हमें एक बात याद रखनी चाहिए ………… ..

जब हम किसी के खिलाफ हथियार उठाते हैं तो हम धरती को उनके खून से सींचते हैं। जैसा कि युद्ध में आग, मौत और रक्तपात है। शव पृथ्वी को अशुद्ध करते हैं। युद्ध पृथ्वी को प्रदूषित करता है और हवा को बाधित करता है। अंत में, कवि रिवर्स लाइन में यह कहते हुए याद करता है कि कोई भी पुरुष विदेशी नहीं है, और कोई भी देश अजीब नहीं है।

You cannot copy content of this page